Wonders Of Science Essay In Hindi विज्ञान पर निबंध 2022

Wonders Of  Science Essay In Hindi(विज्ञान के चमत्कार, आधुनिक विज्ञान पर निबंध , आज का विज्ञान )

विज्ञान पर निबंध 

आज हम जिस युग में रहते हैं। उसे विज्ञान युग के नाम से जाना जाता है। हमारी पढ़ाई में प्रयोग होने वाले पेन से लेकर अंतरिक्ष में जाने वाले रॉकेट सभी विज्ञान की ही देन है आज कल हम सौ फीसदी विज्ञान पर ही निर्भर है। आज कल हम न्यूज़ पेपर में दिन प्रतिदिन देखते है की नये नये अविष्कार होते जा रहे हैं। विज्ञान की इस प्रगति से, विज्ञान एक बहुत ही महत्वपूर्ण विषय बन गया है और आये दिन होने वाली परीक्षाओं में विज्ञान का निबंध पूछा जाता है। 

“विज्ञान का है युग वही, विज्ञान का विस्तार है। 
  विज्ञान से ही हो रहा, नर-नारि का कल्याण है।”

Essay on Wonders of Science in Hindi

विज्ञान पर निबंध 

100, 200, 300, 500, 600

(शब्दों में)

प्रस्तावना – हमारे इस इस वर्तमान युग को जिस युग के नाम जाना जाता है। उसे विज्ञान युग कहते है। आज कल चारों ओर वैज्ञानिक आविष्कारों की धूम मची हुई है। विज्ञान ने आज प्रकृति के गहरे रहस्य को भी सामने ला रखा है। आज कल जितने भी काम किये जाते है उनमें कहीं न कहीं विज्ञान द्वारा प्रदान किये गए अविष्कार ही लगे हुए है।

आज विज्ञान के विकास से लोगों का जीवन काफ़ी सरल बना है और बनता जा रहा है। हमारी पढ़ाई में प्रयोग होने वाले पेन से लेकर हवाईजहाज तक सभी विज्ञान की ही देन है। 

विज्ञान का महत्व – विज्ञान ने हमारे जीवन में यात्रा के लिए साधनों का आविष्कार करके यात्रा करना बहुत ही आसान बना दिया है। प्राचीन काल में मनुष्य किसी स्थान पर दिनों और महीनों में पहुँचता था। लेकिन अब रेल, मोटर, वायुयान, और जलयान आदि के आने से यह यात्रा कुछ ही समय में ही पूरी की जा सकती है। चिकित्सा के क्षेत्र में विज्ञान ने बहुत उन्नति की है। बड़े से बड़े रोग वैज्ञानिक उपकरणों की सहायता से गारंटी से ठीक हो रहे हैं। 

विज्ञान के चमत्कार ईंधन, सूचना, कम्प्यूटर उपकरण आदि ऐसे कई अनोखे साधन विज्ञान ने दिए है जिनसे जीवन बेहद सरल और संपन्न हो गया है। बिजली द्वारा संचालित पंखें, ए.सी. टीवी, कूलर, लाइट्स आदि कई साधन मानव को विज्ञान से प्राप्त हुए हैं।

अब तो विज्ञान ने बिजली के कई ऐसे उपकरण प्रदान किए हैं जिनसे मानव का काम और भी आसान बन गया है। जैसे; वेक्यूम क्लीनर, सोलर गैस, मोबाइल फोन, हीटर आदि। विज्ञान द्वारा प्रदान किए गए यह सभी आविष्कार मनुष्य के लिए वरदान साबित हो रहे हैं।

भोजन, आवास, यातायात, चिकित्सा, मनोरंजन, कृषि उद्योग आदि सभी क्षेत्र विज्ञान से प्रभावित हैं।

आविष्कार विज्ञान ने मनोरंजन के लिए अनेक आविष्कार किये हैं। रेडियो, टेलीविजन, ग्रामोफ़ोन आदि आविष्कार ऐसे हैं जिनके सहारे हम घर बैठकर संसार के समाचारों की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। वैज्ञानिक वस्तुओं ने हमारे जीवन को सुखमय तथा आराम देने वाला बना दिया है। 

“वैज्ञानिक जीवन के कारण, उन्नति राष्ट्र की होती है। 
वैज्ञानिक आविष्कारों से, जीवन में हलचल होती है।”

उपसंहार – वैज्ञानिक आविष्कारों ने हमारे जीवन को बहुत उच्च बना दिया है।  हमको अब यह सोचना चाहिये की विज्ञान का सदुपयोग करके समाज, देश और राष्ट्र  को कैसे उन्नत करें। 

Wonders Of  Science Essay In Hindi

 आधुनिक विज्ञान पर निबंध

500/600 शब्द

निबंध-2 

प्रस्तावना – आज कल हम जिस पेन से नोट बुक में लिखते है। जिस किताब से पढ़ते है। जिस पंखे की हवा लेते है, जिस गाड़ी से स्कूल जाते है, जिस रेलगाड़ी से दूर-दूर की यात्रा कुछ ही समय में कर लेते, जिस हवाई जहाज से हम एक देश से दूसरे देश में कुछ ही घंटो में पहुँच जाते है, जिस मोबाइल फोन से हम पलक झपकते ही अपने दूर के दोस्त,रिश्तेदरों से बात कर लेते है ये सब विज्ञान की ही देन है। 

व्यापकता – आज जीवन का कोई ऐसा क्षेत्र नहीं, विश्व का कोई ऐसा कोना नहीं और तो और विचार की कोई गति नहीं जहाँ विज्ञान न हो। यदि प्राचीन भक्त कवि भगवान के लिए “हरि व्यापक सर्वत्र समाना” अर्थात भगवान् सभी जगह है कह सकते थे जो आज हम भी विज्ञान के लिए अधिकारपूर्वक कह सकते हैं-

“जिधर देखता हूँ उधर तू ही तू है, न तेरी सी खुशबु न तेरी सी बू है।”

अविष्कार तथा लाभ – विज्ञान के प्रभाव से आज दूर से दूर का स्थान भी पास से भी पास लगता है। रेल, मोटर, जलयान, वायुयान, हैलीकॉप्टर आदि साधनों की वजह से अब कोई भी स्थान दूर नहीं रह गया है। इस संसार की तो बात ही क्या है? आज का वैज्ञानिक मंगललोक की भी यात्रा कर आया है। विज्ञान हमे दूर से दूर स्थान तक कम समय और कम ख़र्च में पहुँचता ही नहीं है, बल्कि हजारों मील दूर के दृश्यों को टेलीविजन पर दिखा भी देता है। 

दैनिक जीवन में विज्ञान – विज्ञान ने समय को भी अपने चंगुल से नहीं छोड़ा है।  ऐसी-ऐसी  मशीनों का आविष्कार हो चूका है जो प्रकृति तथा मनुष्य के द्वारा एक लम्बे समय में किये जाने वाले कार्यों को थोड़े ही समय में कर देती है। रेडियो, टेलीविजन, तार, बेतार का तार और टेलीप्रिंटर द्वारा पलक झपकते ही संसार के एक छोर के समाचार दूसरे छोर तक पहुँच जाते है। 

चिकित्सा के क्षेत्र में ‘एक्स-रे’, सिटी स्कैन, अल्ट्रासाउण्ड, “इंजेक्शन” आदि के द्वारा एक नया कायाकल्प हो गया है। शिक्षा कार्य में भी विज्ञान ने बहुत कुछ सहायता प्रदान की है। भौतिक विज्ञान, जंतु विज्ञान, खगोल विज्ञान, वनस्पतिशास्त्र, रसायनशास्त्र आदि विषयों का अच्छा ज्ञान वैज्ञानिक आविष्कारों की सहायता से सरलता से हो जाता है। “प्रेस” के आने  से पुस्तकों तथा समाचार-पत्रों की प्राप्ति सरल से सरलतम हो  गयी है। 

हमारे जीवन में भी विज्ञान ने बहुत ही ज्यादा सहायता की है। कपड़ा, फर्नीचर, सुई, कागज, पेन्सिल, फाउण्टेन पेन, समाचार-पत्र आदि सभी जीवनोपयोगी वस्तुएँ विज्ञान की ही दी हुई हैं। 

विज्ञान से हानि – आज विज्ञान ने असंख्य मशीनों को जन्म दिया है। प्रत्येक छोटे-छोटे कार्य के लिए भी मशीनें मौजूद हैं। एक-एक मशीन सैकड़ों और हजारों मनुष्यों के बराबर कार्य करती है, जिससे मनुष्य को बेरोजगारी की एक नयी भीषण समस्या उत्पन्न हो गयी है। इन मशीनों ने ग्रामीण उद्योग-धन्धों और कुटीर उद्योगों को समाप्त कर दिया है। मशीनों से बना माल देखने में अच्छा होता है और मूल्य में सस्ता पड़ता है। इसकी प्रतियोगिता में हाथ का बना माल भला कैसे टिक सकता है। 

विज्ञान ने प्रत्यक्ष रूप से प्राणी जगत को नष्ट करने के लिए कुछ कम साधन उत्पन्न नहीं किये हैं। टैंक, डायनामाइट, रॉकेट, बेम, परमाणु बम, डाइड्रोजन बम, न्यूट्रोन बम आदि ऐसे शस्त्र हैं, जो पलक मारते ही लाखों मनुष्यों को भस्म कर डालते हैं।  अस्त्र-शस्त्र  वायुमण्डल को भी इतना दूषित कर देते हैं कि मानव-जगत में नाना प्रकार के रोग उत्पन्न हो जाते हैं। इस प्रकार विज्ञान से मानव को ही नहीं मानवता को भी खतरा उत्पन्न हो गया है। 

उपसंहार – अब विश्वास हुआ है कि ये वैज्ञानिक आविष्कार मानव जाति के लिए अभिशाप अधिक हैं वरदान कम।  सत्य भी यह है कि जब से वैज्ञानिक आविष्कारों ने मानव को सुविधा दी है और उसकी भोग की भूख को तीव्र किया है, तब से विश्व में शांति की समस्याएँ अधिक होती जा रही हैं और उनका कोई समाधान नहीं दिखाई देता। 

यह भी पढ़े –

राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी पर निबंध 

रक्षाबंधन पर निबंध 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!